Recent QuizQuiz on FungiAttempt this quiz now
More quizzes

उन्नत खुर्रा बोनी Khurra Boni in Rice


Khurra Boni in Rice or Paddy (धान में खुर्रा बोनी)

What is khurra boni in rice?

Khurra boni in rice or paddy is a method of sowing of paddy seed. In this method paddy is grown in upland area. Transplanting, SRI (System of Rice Intensification), etc., are the other methods of sowing in paddy.

Contents
(1). खुर्रा बोनी क्या होता है?
(2). खेत की जुताई
(3). बीज की बुवाई
(4). महत्व
(5). अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Also read: Bio-fertilizers for paddy (rice)

(1). खुर्रा बोनी क्या होता है?

यह (खुर्रा बोनी) धान की बुवाई या खेती की एक विधि है। इसे बरसात प्रारंभ होने से पहले करते हैं। बरसात शुरू होने से पहले सूखे खेत की जुताई करके सूखे खेत में ही धान की बुवाई कर देते हैं। इसके लिए अधिकतर देशी हल या ट्रैक्टर का उपयोग जुताई हेतु करते हैं।

(2). खेत की जुताई

खेत की जुताई मई जून के महीने में 2 से 3 बार जुताई करके खेत की अच्छी तरह से तैयारी करते हैं। जून के प्रथम सप्ताह में बुवाई प्रारंभ कर देना चाहिए।

Also read: Minor insect-pests of rice

(3). बीज की बुवाई

इस हेतु जून के प्रथम सप्ताह में नारी हल (बैल चलित ऐसा हाल जिसकी सहायता से बुवाई की जा सकती है) अथवा सीड ड्रिल का उपयोग कर धान के बीजों की बुवाई की जाती है।

बीजों की बुवाई हेतु कतार से कतार की दूरी 20 सेमी रखते हैं। बुवाई के समय आधार उर्वरक जैसे, नत्रजन, पोटाश, और फॉस्फोरस को बोई गई कतार में डालते हैं।

इस विधि से बोई गई धान के बीजों में जैसे ही मानसून की पहली बौछार पड़ती है, उनमें अंकुरण आ जाता है। क्योंकि बीजों को कतारों में बोया गया होता है, अतः अगली बारिश तक यह नमी उन दिनों के लिए पर्याप्त होती है।

Also read: Major insect-pests of rice

(4). महत्व

क्योंकि इस विधि से धन की अगेती बुवाई होती है, यही कारण है कि ब्यासी विधि की अपेक्षा इस विधि में धान की फसल जल्दी पककर तैयार हो जाती है। लगभग 15 से 20 दिन पहले फसल पककर तैयार हो जाती है। इससे यह लाभ होता है कि सितम्बर के अंत में होने वाली वर्ष की कमी से यह प्रभावित नहीं हो पाती है।

धान के जल्दी कट जाने का एक महत्व यह भी होता है कि खेत में नमी की मात्रा बनी रहती है। इस तरह यह नमी जल्दी बोई जाने वाली रबी फसल के लिए उत्तम होती है।

अगर सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो तो इस विधि से लगाई गई धान की कटाई बहुत जल्दी की जाती है। इस तरह अगली फसल को समय पर लगाया जा सकता है।

Also read: Rice bowl of India Chhattisgarh

(5). अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न 01. क्या हम इस विधि को जल भराव या दलदली भूमि में अपना सकते हैं?

उत्तर: नहीं, इस विधि को अगर जल भराव वाली स्थिति में अपनाया जाए तो यह नुकसान देह ही होगी। अतः हमेशा इस विधि को ऊपरी भूमि में ही अपनाएं।

प्रश्न 02. क्या इस विधि से धान की खेती करने पर अधिक उपज मिलती है?

उत्तर: इस विधि से धान की खेती करने पर 15 से 20% धान की अधिक उपज की संभावना होती है।

प्रश्न 03. इस विधि हेतु सबसे उत्तम समय कौनसी होती है?

उत्तर: इस विधि हेतु सबसे उत्तम समय जून का प्रथम सप्ताह होता है।

Key words: Khurra boni vidhi, खुर्रा बोनी, rice cultivation.

Key phrases: Method of sowing in paddy, method of cultivation of paddy, what are the different methods of rice production?

Many technologies has been introduced by the International Rice Research Institute.

Latest posts


Leave a Reply

Your email address will not be published.